annoucements

Happy Anniversary to Rajkumar lt. vijay singh baid And Ranju rajkumar baid Happy Birthday to Komal Manoj kumar Sethia Happy Birthday to Lalita samsukha Nirmal samsukha Samsukha Happy Birthday to Gaurav bhansali Binod kumar bhansali Bhansali Happy Birthday to Shantidevi Late gajaraj ji Dudhoria Happy Birthday to Mamta Amit Nahata Happy Birthday to Tarun kumar Gyanchand Marothi jain

ABOUT

GUWAHATI SABHA

Why Us Image

ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर बसा गुवाहाटी असम की राजधानी के साथ-साथ पूरे पूर्वोत्तर भारत का सबसे बड़ा शहर एवं महत्वपूर्ण वाणिज्यिक केंद्र है। गुवाहाटी को पूर्वोत्तर भारत का प्रवेशद्वार भी कहा जाता है। प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर इस शहर की छटा अत्यंत लुभावनीय है। वर्तमान में गुवाहाटी शहर की जनसंख्या लगभग 15 लाख है, जिसमें जैन समुदाय के सदस्यों की संख्या करीब 20000 है और तेरापंथी समुदाय की जनसंख्या लगभग 8000 है।

गुवाहाटी तेरापंथ समाज को संगठित व विकसित करने के उद्देश्य से एक चिंतन प्रारंभ हुआ और इसे मूर्त्त रूप देने की शुरुआत सन्‌ 1970-71 में समाज के कुछ अग्रणी श्रावकों की पहल से हुई। इसी क्रम में धार्मिक गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए उपयुक्त स्थान की परिकल्पना की गई । समाज के तीन प्रमुख व्यक्तियों स्व. हुलासमलजी बैद (राजलदेसर ), स्व. पूनमचन्दजी दुगड़ (छापर) एवं स्व. तोलारामजी सेठिया (सरदारशहर) ने समग्र समाज के सहयोग से इस कार्य को पूर्ण करने का बीड़ा उठाया। इसके फलस्वरूप 1980 में श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा का विधिवत गठन हुआ। इसमें मुख्य रूप से श्रीमान्‌ रिखबचन्दजी सुराना, स्व. रायचन्दजी कोठारी, स्व.मोतीलालजी कोठारी, स्व. कोडामलजी सुराना, स्व. हंसराजजी बैद डांडिया, स्व. तोलारामजी बाफना, श्री दौलतजी सुराना, स्व. पनन्‍नालालजी 'पटावरी, स्व सुमेरमलजी कोठारी, स्व, जसकरणजी 'फूलफगर, स्व. जंवरीमलजी कुचेरिया, स्व. थानमलजी बैद एवं श्री माणकचन्दजी नाहर का प्रमुख योगदान रहा।

सभा के संस्थापक अध्यक्ष स्व. मोतीलालजी कोठारी थे। गुरु कृपा एवं सभा के नेतृत्व में समाज निरंतर संगठित और विकास की ओर अग्रसर होता गया।

संगठित व विकसित गुवाहाटी समाज की भावना देखते हुए नवम अधिशास्ता गणाधिपति गुरुदेव श्री तुलसी ने महती कृपा करके गुवाहाटी में प्रथम चातुर्मास साध्वी श्री मोहनाजी (राजगढ़) का 'फरमाया। गुवाहाटी समाज के संघ एवं संघपति के प्रति प्रबल आस्था एवं रुचि के फलस्वरूप समय-समय पर चारित्रात्माओं एवं समणी केंद्र का लाभ श्रावक-श्राविकाओं को मिलता रहा है, जिसमें विशेष उल्लेखनीय है कि वर्तमान आचार्य श्री महाश्रमणजी ने भी गुवाहाटी एवं पूर्वांचल श्रावक समाज पर महती कृपा करके वर्ष 2016 में अपना सफलतम एवं ऐतिहासिक चातुर्मास गुवाहाटी (धारापुर) में परिसंपन्‍न किया। गुवाहाटी में परमपूज्य आचार्य श्री महाश्रमणजी के चातुर्मास के अलावा 21 चारित्रात्माओं का चातुर्मास एवं अनेक समणी केंद्र संपन्न हो चुके हैं।

वर्तमान अध्यक्ष श्री झणकारजी दुधोड़िया के नेतृत्व में सभा निरंतर विकासशील है।

latest

news & events

latest event

15 जून 2022 : तेरापंथी सभा (सत्र 2022-24) के नवनिर्वाचित अध्यक्ष श्री बजरंग सुराणा एवं उनकी कार्यकारिणी का शपथ विधि समारोह

गुवाहाटी 15 जून। श...

know more
past event

श्री जैन श्वेतांबर तेरापंथी सभा,गुवाहाटी द्वारा संचालित कोरोना टीकाकरण अभियान के प्रथम चरण का समापन

श्री जैन श्वेतांबर तेरापंथी सभा,गुवाहाटी द्वारा संचालित कोरोना टीकाकरण अभियान के प्रथम चरण का समापन समारोह तेरापंथ धर्म...

10 May 2021
know more
For any enquiry about web directory Please contact :

Choradia Sanjay +91- 9864032611

Dosi Rajender +91- 9811114685

Kochar Ashish +91- 9954199542

Sethia Manoj +91- 9435048385

Surana Pankaj +91- 9706027779